Menu

KRISHNA Tarangam

A Political and Sciences Website

Gita Bhagya Chakram

Weekly Guidance

 

Bhagya Chakram is a secret science to guide you through your daily life by predicting your situation and helping you out with Gita based guidance . This is the guidance which Krishna gave to Arjuna through the Gita shlokas. They are shlokas, but they carry coded vibrations which predict your situation and give you a solution.  It is said that the battle of Mahabharat went on for 18 days and Krishna hinted what was going to happen each day through the secret vibrational codes. Arjuna carried himself out through that situation by practising a particular state of mind.

The same system has been applied to help people of various rashis (zodiac signs) by decoding their situation for them during the week and how they should handle it. The Krrisha team introduces the new feature weekly to help you prepare for the week. Later, this could be reintroduced as a daily feature. The main intention of introducing the secret system  is to help you imbibe, practise and execute the right attitude of mind and not to promote any superstition.

Krrisha Team

 


 

 

Mesh/Aries

It is time to give up old habit. Such habits force you into unpalatable situations. With strong reasoning and right purpose, let go the way you act and behave. Evolve and come out of doubts. Chapter 5 of the Bhagwad Gita is advised for you.

 

 

 

 

मेष

अब समय है कि आप अपनी पुरानी आदतों को छोड़ दें। ऐसी आदतें आपको अरुचिकर परिस्थिति में डाल देती हैं। दृढ़ विवेक और उचित उद्देश्य द्वारा अब आप जैसे व्यवहार करते हैं उसे जने दें। मानव विकास क्रम में आगे बढ़ें और अपने संशयों से बाहर आएं। भगवद्गीता के पाँचवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।

 


Vrishabh/Taurus 

Hold your stand firm. Don’t give up right actions and thoughts. You are going to emerge victorious. All that nervous feeling should go now.Peace all around. Chapter 1 of the Gita is advised for you.

 

 

वृषभ

अपने स्थान को दृढ़ता से पकड़े रहें। सही कार्य और विचारों का त्याग न करें। आप विजयी होंगे। आतंक का सारा भाव अब चला जाएगा.. हर तरफ शांति। गीता के पहले अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।

  


Mithun/Gemini

Don’t be biased against people. Allow yourself to evaluate them in an objective light. You can draw energy by engaging in noble work. Take care of your health.  Chakram advises you to recite Chapter 9 of the Gita.

 

 

 

मिथुन

   लोगों के प्रति पक्षपात न करें। स्वयं को उन्हें वस्तुनिष्ठ प्रकाश में देखने की अनुमति दें। आप भलाई के कार्य से जुड़ कर ऊर्जा प्राप्त कर सकते हैं। अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। चक्रम् परामर्श करते हैं कि आप गीता के नवें अध्याय का पाठन एवं परायण करें।

 

 

 



Kark/Cancer

Expand yourself. Expand your jurisdiction. People are eagerly looking at you for answers. They follow you. Just remain their role model. Fight boredom with creative engagements. Chakram suggests recitation of Chapter 9 of the Bhagwad Gita.

 

 

कर्क

खुद का विस्तार करें। अपने न्यायिक क्षेत्र का विस्तार करें। लोग आपसे अधीरता से उत्तर मांग रहे हैं। वे आपका अनुसरण करते हैं। बस उनके आदर्श बने रहें। रचनात्मक संलग्नताओं से बोरियत हटाएं। चक्रम् भगवद्गीता के नवें अध्याय का पाठन एवं परायण करने का परामर्श करते हैं।

 


Simha/Leo

You are seeking guidance from within. God is there in your heart. Just listen to Him and see how you can prevail over your situation. You are playing an important role in somebody’s life. Pranayama is a must for you. Chakram suggests recitation of Chapter 10 of the Gita.

 

 

 

सिंह

आप आंतरिक स्तर पर दिशानिर्देश प्राप्त कर रहे हैं। ईश्वर आपके हृदय में हैं। बस उनकी सुनें और देखें कैसे आप परिस्थिति के ऊपर बने रहते हैं। आप किसी के जीवन में महत्वपूर्ण किरदार निभा रहे हैं। प्राणायाम आपके लिए अवश्यम्भावी है। चक्रम् गीता के दसवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श देते हैं।


Kanya/Virgo

Your objective is according to your nature. Please know it for sure and identify our real goal. You are sure to achieve it, but if you are working for somebody else’s goals, you will only end up miserable. Send vibration of love all around . God is with you if you believe He is. Chakram advises you recitation of Chapter 9 of the Gita.

 

 

 

 

कन्या

आपका लक्ष्य आपके स्वभाव के अनुसार ही है। कृपया यह निश्चित जानें और अपने वास्तविक लक्ष्य को जानें। आप निश्चित हैं कि वह आपको मिलेगा, पर आप अन्य किसी के लक्ष्य हेतु कार्य कर रहे हैं, और आप केवल दयनीय स्थिति में बाहर निकलेंगे। हर तरफ प्रेम की तरंगों का प्रसार करें। यदि आप विश्वास करते हैं तो ईश्वर सदैव आपके साथ हैं। चक्रम् गीता के नवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श करते हैं।

 


Tula/Libra

Keep your inside cool. Avoid anger and fears. If you can do so, you will realise that all your surroundings are but extension of peace within. All you need to do is master your mind and bring it under the power of your will. Peace and tranquility are what you are going to experiences amid turbulence. Chakram advises you to recite Chapte 5 of the Bhagwad Gita.

 
 

 

 

 

 

तुला

अंतरमन से शांत रहें। क्रोध करने और भय महसूस करने से बचें। यदि आप ऐसा कर सकेंगे, तो आप यह जान जाएंगे कि आपका परिवेश आपकी आंतरिक शांति का ही प्रसार है। आपको केवल अपने मन पर स्वामित्व पाना है और अपनी इच्छाशक्ति के अधीन लाना है। आप अशांति में भी शांति और अक्षोभ पाएंगे। चक्रम् भगवद्गीता के पाँचवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श करते हैं।   


Vrishchik/Scorpio

Keep on doing, keep making efforts to  achieve what is natural to you. Every action has its goods and bads. So remain firm and decisive of what you want to do. There is nothing absolutely good. So the work, which has its own flaws, but is natural to you will still be better for you. Avoid changing job.  Chakram suggests chapter 18 of the Bhagwad Gita this week

 

 

वृश्चिक

कार्य करते रहें, जो आपके लिए स्वाभाविक है उसे प्राप्त करने का प्रयास करते रहें। हर कार्य का अच्छा और बुरा अंश होता है। इसलिए जो आप करना चाहते हैं, उसके बारे में दृढ़ और निश्चित रहें। कुछ भी पूर्णतया अच्छा नपीं होता। इसलिए वह कार्य जिसमें अपनी बुराइयां हैं, पर आपके लिए स्वाभाविक है, उसे करना आपके लिए बेहतर होगा। कार्य/व्यवसाय बदलने से बचें। चक्रम् गीता के अठारहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श करते हैं।


 

 

 

Dhanur/Sagittarius

You should thank God who is above all you see around you and the main cause of all. Don’t ignore Him, if you want good things to happen all around you. A silence is better than a reaction. Respect yourself. Chapter 11 of the Bhagwad Gita is advised for you.

 

 

 

 

धनु

आपको ईश्वर का धन्यवाद करना चाहिए जो कि आपके परिवेश की हर वस्तु से परे हैं और सब का मुख्य कारण हैं। उनकी अवहेलना न करें, यदि आप चाहते हैं कि आपके चारों ओर अच्छी चीज़ें हों। प्रतिक्रिया से बेहतर शांति होती है। अपना सम्मान करें। भगवद् गीता के ग्यारहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।


 

 

Makar/Capricorn

Keep yourself out of thoughts which make you think how important you are. You have to practise and prevail over your surroundings and associations, not as a person, but as a principle. Keep doubts out of it all. Chakram advises recitation of  Chapter 15 of the Gita is advised for you.

 

 

 

मकर

जो विचार आपको यह बताते हैं कि आप महत्वपूर्ण हैं, उनसे दूर रहें। आपको अपने परिवेश और संबंधों पर अभ्यास करके टिकना होगा, एक व्यक्ति की तरह नहीं, एक सिद्धांत की तरह। संशयों को इससे दूर रखें। चक्रम् गीता के पंद्रहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श देते हैं।


 

 

 

Kumbha/Aquarius

 You are going to meet an important and powerful person. You are looking forward to it for long. God works wonders through human dimensions too.  Meditation is a must for you. Consume a lot of liquid food. Chapter 7 of the Bhagwad Gita is advised for you.

 

 

 

 

कुंभ

आप किसी महत्वपूर्ण और शक्तिशाली व्यक्ति से मिलेंगे। आप बहुत समय से इस अवसर की प्रतीक्षा कर रहे हैं। ईश्वर मानव आयाम द्वारा भी आश्चर्यजनक कार्य कर देते हैं। ध्यान आपके लिए अवश्यम्भावी है। बहुत सारा तरल भोजन ग्रहण करें। भगवद्गीता के सातवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।


Meen/Pisces

You will achieve whatever you are imagining or thinking about to the exclusion of yourself. Keep your calm and keep working. Everything thing is changing according to you. Make the best of the sitution. Keep doing yogic exercises and pranayam. Recitation of  Chapter 8 of the Gita is advised for you.

 
 

 

 

मीन

आप जो सोचते या कल्पित करते हैं, अपने बहिष्करण तक उसे प्राप्त करेंगे। अपने को शांत रखें और कार्य करते रहें। हर चीज़ आपके अनुसार बदल रही है। परिस्थिति का उच्चतम प्राप्त करें। यौगिक अभ्यास और प्राणायाम करते रहें। भगवद् गीता के आठवें अध्याय का पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।


 

 

  “I know God knows every mind and feels every heart more clear than they do.”

                   

Vivek Sharma

 

 

 

 

 

 

 


 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

View older posts »