Menu

KRISHNA Tarangam

A Political and Sciences Website

Bhagya Chakram

 

Same as last week!

Gita Bhagya Chakram

Weekly Guidance

 

 

Bhagya Chakram is a secret science to guide you through your daily life by predicting your situation and helping you out with Gita based guidance . This is the guidance which Krishna gave to Arjuna through the Gita shlokas. They are shlokas, but they carry coded vibrations which predict your situation and give you a solution.  It is said that the battle of Mahabharat went on for 18 days and Krishna hinted what was going to happen each day through the secret vibrational codes. Arjuna carried himself out through that situation by practising a particular state of mind.

The same system has been applied to help people of various rashis (zodiac signs) by decoding their situation for them during the week and how they should handle it. The Krrisha team introduces the new feature weekly to help you prepare for the week. Later, this could be reintroduced as a daily feature. The main intention of introducing the secret system  is to help you imbibe, practise and execute the right attitude of mind and not to promote any superstition.

Krrisha Team

 


 

 

Mesh/Aries

Unless you free yourself from fear, envy and anger, you can’t succeed in your plan. You are a gem of a person if you don’t play politics in little things. All your efforts are meant to keep yourself in a higher position. You even want to be known and celebrated for the qualities you don’t have. Nature has left only two options before you—get rid of your political nature now or lose the best She has offered you as a relation. You need to exercise purification of your body and mind. Everything cannot be resolved through  business-like attitude. So Chapter 4 of the Bhagwad Gita is advised for you. It will balance your fire element, which makes your body shake and tremble in excitement.  

 

मेष

जबतक आप खुद को भय, ईर्ष्या और क्रोध से मुक्त नहीं कर लेते, आप अपने प्रयोजन में सफल नहीं हो सकते। यदि आप छोटी चीजों में कूटनीति न करें तो आप हीरा व्यक्ति हैं। आपके सभी प्रयास आपको एक उच्च पद पर रखने हेतु हैं। आप उन गुणों के लिए भी प्रशंसा चाहते हैं जो आप में नहीं हैं। प्रकृति ने आपके सामने केवल दो विकल्प छोड़े हैं-- अपने कूटनैतिज्ञ स्वभाव से मुक्त हो या श्रेष्ठ का त्याग करें जो उन्होंने आपको एक संबंध के रुप में प्रदत्त किया है। आपको देह और मन की पवित्रता का अभ्यास करने की आवश्यकता है। सबकुछ व्यापार-व्यवहार के माध्यम से नहीं हल हो सकता। तो आपके लिए गीता के चौथे अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है। यह आपके अग्नि तत्व को संतुलित करेगा जिसके कारण आपका शरीर उत्तेजना से कंपायमान हो जाता है। 

 


Vrishabh/Taurus .

You will be more drawn to spirituality and purification processes than anything else. Give up your rigid stand on baseless things. Those who are of higher spiritual nature  will find this world useless, will have a bit of vairagya for it. They will cut themselves off for sometime to introspect and purify themselves. Nature is interfering in your case. Take a short break before undertaking a new project, assignment or job. Some of you require fresh air. Having faith in the right advice alone can take you further. Those who are spiritually awakened would continue to focus on their goal and keep moving. People would like to associate with them. The spiritually high shall be protected by Nature, will be determined, calm and will dominate their surroundings with their presence and stay in peace. Inner light is guiding them. They must balance five elements. Chapter 5 of the Gita is advised for you.

 

वृषभ

आप अन्य किसी भी चीज से अधिक, आध्यात्म और पवित्रीकरण की ओर अधिक खिंचाव महसूस करेंगे। आधारहीन चीजों पर अपने जटिल दृष्टिकोण का त्याग करें। जो लोग उच्च आध्यात्मिक स्वभाव के हैं उन्हें यह संसार अर्थ-हीन लगेगा, उनमें संसार के प्रति थोड़ा वैराग्य होगा। वे स्वयं को कुछ समय के लिए अलग कर लेंगे, आत्म-विश्लेषण करेंगे और अपना पवित्रीकरण करेंगे। प्रकृति आपके विषय में हस्तक्षेप कर रही हैं। नए प्रयोजन, व्यवसायिक कार्य के पहले एक छोटा विराम लें। आप में से कुछ को ताजी हवा की आवश्यकता है। सही परामर्श में विश्वास होना ही केवल आपको आगे ले जा सकता है। जो आध्यात्मिक रूप से जागरुक हैं वे अपने लक्ष्य पर एकाग्र रहना जारी रखेंगे और बढ़ते जाएंगे। लोग उनसे संबंध बनाना चाहेंगे। श्रेष्ठ आध्यात्म के व्यक्ति प्रकृति के द्वारा रक्षा प्राप्त करेंगे, दृढ़ और शांत रहेंगे और अपने प्रतिवेश पर अपनी व्याप्ति के द्वारा स्वामित्व रखेंगे और शांति में रहेंगे। आंतरिक प्रकाश उनका दिशा-निर्देशन कर रहे हैं। उन्हें पांचों तत्वों को संतुलित करना चीहिए। गीता के पांचवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए। 


 

 

 


Mithun/Gemini

You need to work on your character and mindset more than anything else. It is right time to monetarily and physically contribute to some welfare programmes. This will discipline you and benefit your associates too. You are distracted towards other things. This is consuming a lot of your positive energy that you gain through some spiritual exercises or good nature. Don’t carry your misconceptions about yourself. You are rating yourself very high. But, in the work environment, what matters is how others rate you. Don’t give up your good qualities under the influence of somebody close to you. Havan, agyaari are important to help you fight negative environment around you. Take care of your stomach region. And keep away from cold things. Chakram advises you to recite Chapter 4 of the Gita.

 

 

मिथुन

किसी चीज से अधिक आपको अपने चरित्र और मानसिकता पर कार्य करना आवश्यक है। यह सही समय है जिसमें आप किन्हीं कल्याणकारी प्रयोजन में आर्थिक एवं शारीरिक स्तर पर योगदान कर सकते हैं। यह आपको अनुशासित करेगा और आपके संबंधों को भी हितकर होगा। आप दूसरी चीजों की तरफ विचलित / व्याकुल हैं।  यह आपकि अधिकांश सकारात्मक ऊर्जा का क्षय कर रहा है जो आप अच्छे स्वभाव एवं कुछ आध्यात्मिक अभ्यासों के द्वारा प्राप्त करते हैं। अपने बारे में अपने मिथ्या विचारों का वहन न करें। आप खुद को बहुत ऊँचा आंक रहे हैं। पर कार्य क्षेत्र में यह मायने रखता है कि दूसरे आपका कैसा मूल्यांकन करते हैं। अपने किसी करीबी के प्रभाव में आकर अपने अच्छे गुणों का त्याग न करें। हवन, अग्यारी आपके आस-पास के नकारात्मक परिवेश से लड़ने में महत्वपूर्ण हैं। अपने उदर-क्षेत्र का ध्यान रखें। और ठंडी चीजों से दूर रहें। चक्रम् परामर्श करते हैं कि आप गीता के चौथे अध्याय का पाठन एवं परायण करें।



Kark/Cancer

 Stop worrying about adversaries. None can survive the waves emitting from the dead honest. Only the absolutely pure and honest shall find their opponents decimated by nature. It is important to understand this phase is dominated by timing and time. Keep yourself attuned for best result. Finish things in time and timely and you shall find even the impossible changing for you. In a traditional language, Time has lifted its deadly sword up to discipline everything. So if you are dead honest, you will be saved from its sharp edge and your adversaries shall be cut asunder by it. But, if you too are not honest then it will hit you proportionately. However, it will surely stand by the side of the spiritual and remove all obstacles and adversaries from their way. You shall witness harsh, and ruthless things happening around. Stay calm and be a witness to it all. You may receive some long-awaited news regarding your job, work or project, career of a helping friend. Chakram advises you to recite Chapter 11 of the Gita. This will balance your water element in order to better your fire element. God’s Rudra aspect is operative for you.

 

कर्क

दुश्मनों के बारे में चिंतित होना बंद करें। कोई भी एक रीढ़ तक सच्चे व्यक्ति से उमड़ रही तरंगों का सामना नहीं कर सकता है। केवल पूर्णतया पवित्र और सच्चे व्यक्ति ही पाएंगे कि प्रकृति के द्वारा उनके शत्रुओं का नाश हुआ है।  स्वयं को श्रेष्ठ परिणाम के आदि बनाएं। चीजों को समय भीतर और समय के अनुसार समाप्त करें और आप असंभव को भी आपके लिए परिवर्तित होता पाएंगे। पारंपरिक भाषा में यदि कहा जाए तो, समय ने सब कुछ अनुशासन में करने हेतु अपनी भयंकर तलवार उठा ली है। तो यदि आप रीढ़ तक सच्चे हैं तो आप बच जाएंगे और आपके शत्रु छिन्न-भिन्न हो जाएंगे। पर अगर आप भी पूर्णतय सच्चे नहीं हैं तो यथानुसार आप भी प्रहार प्राप्त करेंगे। हलांकि वह निश्चित ही आध्यात्मिक का समर्थन करेंगी और मार्ग से सभी शत्रुओं और व्याधि को हटा देंगी। आप अपने आस-पास निष्ठुर और निर्मम घटनाएं घटती देखेंगे। शांत रहें और सबके साक्षी रहें। आपको लंबे समय से प्रतीक्षित  आपके जौब से संबंधित, कार्य या सहायक मित्र के प्रयोजन कार्यकाल से संबंधित समाचार प्राप्त होगा।  चक्रम् परामर्श करते हैं कि आप भगवद्गीता के ग्यारहवें अध्याय का पाठन एवं परायण करें । यह आपके जल तत्व को संतुलित करेगा जिससे आपका अग्नि तत्व बेहतर होगा। ईश्वर का रुद्र पक्ष आपके लिए क्रियाशील है। 


 

Simha/Leo

 Stop doubtingFocused energy is working through you. You may experience some tension in the forehead or head.  Good opportunities waiting for you. But, without belief in what you are doing, you cannot really enjoy success.  Financial gains are indicated. There is no need to doubt those who wish you well. Some elderly person, teacher or guide may give you some tips to get ahead in your project. Despite multiple activities, you shall have to keep your mind calm. Don’t bother about how and what others think, just get ahead with your plan and Nature will arrange things for you. Your presence and attire would matter in influencing people the right way. You should practise meditation and pranayam to free your energies from emotional bonds. Adopt healthy ways and work for your goal to balance out the five elements. The fire element is a bit higher, which may make you feel energised and burnt out (depressed). Just consume a lot of liquid and cow ghee to counter its ill-effects. A diya of ghee can also be lit to counter the ill-effects.  Recitation of Chapter  5 of the Gita is advised for you. 

 

सिंह

संशय करना बंद करें। आपसे एकाग्र ऊर्जा कार्य कर रही हैं। आपको माथे या सिर में कुछ तनावमहसूस हो सकता है। सुअवसर आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। पर जो आप कर रहे हैं उसमें विश्वास के बगैर आप सफलता का आनन्द नहीं ले सकेंगे। आर्थिक लाभों की ओर संकेत है। जो आपका भला चाहते हैं उनपर संशय करने की कोई आवश्यकता नहीं है। कोई वृद्ध व्यक्ति, शिक्षक यामार्गदर्शक आपके प्रयोजन में आगे बढ़ने हेतु कुछ बिंदु बता सकते हैं। क्रियाओं की बहुतायत के बावजूद भी आपके मन को आपको शांत रखना होगा। दूसरे क्या और कैसे सोचते हैं उस बारे में चिंतित न हों, बस अपने प्रयोजन के साथ आगे बढ़ें और प्रकृति आपके लिए प्रबंध कर देंगी।आपकी पोषाक और व्याप्ति लोगों को सही प्रभाव डालने में मायने रखेंगी। आपकी ऊर्जाओं को भावनात्मक बंधनों से मुक्त करने हेतु आपको ध्यान एवं प्राणायाम करना चाहिए। स्वास्थ्यकारी मार्ग का चयन करें और पंचतत्वों को संतुलित करने हेतु अपने लक्ष्य के लिए कार्य करें। अग्नि तत्व थोड़ा बढ़ा हुआ है जिसके कारण आपको ऊर्जित और अवसाद दोनों महसूस हो सकता है।बस बहुत सा पेय और गौघृतम् का प्रयोग कर इसके दुष्प्रभाव का विरोध करें। दुष्प्रभाव हटाने के लिए घी का दीपक भी प्रज्वलित कर सकते हैं। गीता के पांचवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।

 


 

 

 

Kanya/Virgo

Time wants you to be decisive. Either you quit what is bothering you or remain absent to nullify its effect. Changes are inevitable. You may find some of them unfavourable at first. But later on you shall realise that whatever has happened has happened for good. The air element is still enhanced in you. It is not keeping you calm. Try to stabilise your air element by practising a proper breathing technique. Your stomach may ache and you may find yourself breathless sometimes. There is need to address your problems of  anxiety, stress and nervousness. Some may face skin issues. Problems return only when you are indecisive. Learn proper meditation technique or learn kumbh kriya for best results. You may feel your existence threatened. Ashtvasus need to be pacified or eight-fold nature of yours need to be balanced through spiritual exercises. Chakram advises you recitation of Chapter 8 of the Gita.

 

कन्या

समय चाहते हैं कि आप निर्णयात्मक हों। या तो आपको जो परेशान कर रहा है उसे छोड़ दें या उसे प्रभावहीन करने के लिए स्वयं को अनुपस्थित कर लें। परिवर्तन अनिवार्य हैं। आपको शुरू में कुछ परिवर्तन आपके विपक्ष में महसूस हो सकते हैं। पर बाद में आप यह पाएंगे कि जो हुआ है अच्छे के लिए हुआ है। आप में वायु तत्व अभी भी बढ़ा हुआ है। यह आपको शांत नहीं होने दे रहा है। प्रयास करें कि वायु तत्व संतुलित हो, उसके लिए सही श्वसन तकनीक का अभ्यास करें। आपका पेट दर्द कर सकता है और आप स्वयं को बिना श्वास के पा सकते हैं। आवश्यक है कि आप घबराहट,तनाव और बेचैनी की समस्याओं का संबोधन करें। आपमें से कुछ को चर्म/त्वचा से संबंधित समस्या हो सकती है। समस्याएं वापस आती हैं जब आप अनिर्णायक होते हैं। ध्यान की सही तकनीक सीखें या श्रेष्ठ परिणामों के लिए कुंभ क्रिया ध्यान सीखें। आपको आपके अस्तित्व का खतरा महसूस हो सकता है। अष्टवसु को शांत करने की आवश्यकता है या आध्यात्मिक अभ्यासों द्वारा आपकी अष्टधा प्रकृति को संतुलित करने की आवश्यकता है। चक्रम् परामर्श करते हैं कि गीता के आठवें अध्याय का पाठन एवं परायण करें। 

 


Tula/Libra

Actions speak louder than words. You should learn when to act, when not to and when to attempt a creative action. Balance the three according to time and need. You will have to give up intellectual and spiritual ego in order to see the truth fully. Some people want you to be influenced. That unsettles you a bit. But, know if for sure that you are susceptible to influences. Some people drag you into their favour. Always be with the person who helps you and not with the person who assures help only. Unless you move away from false influencers, you can’t gain peace at all. Your habit of giving credit to wrong people to stand politically correct may take good people away from you. Your fame will rise in all the direction, still you shall be apprehensive. That is because you don’t give credit to your close well-wisher and guide. Intelligent people give due credit to those who deserve it. Perform agyaari and havan. Chakram suggests recitation of Chapter 4 of the Gita.

तुला

कार्य शब्दों से अधिक वाचन करते हैं। आपको यह सीखना चाहिए कि कब सक्रिय हों और कब नहीं, कब रचनात्मक सक्रियता की आवश्यकता है। तीनों को समय एवं आवश्यकता अनुसार संतुलित करें। सत्य को पूर्ण रूप से देखने हेतु आपको बौद्धिक एवं आध्यात्मिक अहंकार का त्याग करना होगा। कुछ लोग चाहते हैं कि आप प्रभावित हो जाएं। यह आपको थोड़ा विचलित करता है। पर यह निश्चित रूप से जान लें कि आप प्रभावों के प्रति ग्रहणशील हैं। कुछ लोग आपको उनके पक्ष में खींच लेते हैं। हमेशा उस व्यक्ति के साथ रहें जो आपकी सहायता करता है न कि वह जो केवल सहायता का दिलासा ही देता है। जबतक आप झूठे प्रभाव के व्यक्तियों  से दूर नहीं होंगे, आपको शांति बिलकुल नहीं मिलेगी। आपकी यह आदत कि गलत व्यक्ति को केवल राजनैतिक दृष्टिकोण से सही होने के लिए श्रेय देना आपसे अच्छे लोगों को दूर कर देगा। आपकी कीर्ति हर दिशा में बढ़ेगी फिर भी आप शंकित रहेंगे। क्योंकि आप अपने करीबी शुभचिंतकों और दिशानिर्देशक को श्रेय नहीं देते हैं। बुद्धिमान व्यक्ति उन्हें श्रेय देते हैं जो उसके हकदार हैं। हवन एवं अग्यारी करें। चक्रम् गीता के चौथे अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श करते हैं। 

 


Vrishchik/Scorpio

You can now see your future brightening up and your project gaining popularity. You will be able to neutralise subtle attack by your adversaries by this month end. But, you may face a bit odds before it all evens out for you. Some hidden friend or fact will come to your rescue. Those who are spiritually high shall feel connected, oriented in command of all possible situations.   Have patience and you will find things rolling out the right way only when you engage yourself in spiritual exercises more. Take care of your nerves. Balance out your elements as you may experience rise in the fire element, which often manifests as anger and selfishness. Meditation and spiritual life are a necessity for you. It is important that you remain calm and happy while handling big issues. Make spiritual life your priority. Chakram advises recitation of Chapter 15 of the Gita for you.

 

वृश्चिक

अब आप अपने भविष्य को उज्जवल होता और आपके प्रयोजन को प्रसिद्ध होता देख सकते हैं। इस महीने के अंत तक आप अपने शत्रुओं के सूक्ष्म आघातों को निष्फल करने लगेंगे। पर, हो सकता है आपको कुछ विषमताओं का सामना करना पड़े इससे पहले कि सब सही हो। कोई छिपा हुआ मित्र या तथ्य आपकी सहायता को आएगा। जो उच्च आध्यात्मिक स्तर पर हैं वे युज्ज, हर परिस्थिति में स्वामित्व अनुभव करेंगे। धैर्य रखें और आप पाएंगे कि केवल जब आप खुद को और अधिक आध्यात्मिक अभ्यासों में संलग्न कर रहे हैं तब चीजें सही हो रही हैं। अपनी तंत्रिकाओं का ध्यान रखें। अपने तत्वों को संतुलित करें क्योंकि आपको अग्नि तत्व में वृद्धि अनुभूत हो सकती है और वह क्रोध एवं स्वार्थ के रूप में अभिव्यक्त होती है। ध्यान एवं आध्यात्मिक जीवन आपके लिए अनिवार्य हैं। यह महत्वपूर्ण है कि आप बड़े मुद्दों को संभालते समय प्रसन्न एवं शांत रहें। आध्यात्मिक जीवन को अपनी प्राथमिकता बनाएं। चक्रम् परामर्श करते हैं कि आप गीता के पंद्रहवें अध्याय का पाठन एवं परायण करें। 


 

 

Dhanur/Sagittarius

Giving up something good generates negative energy. Negative energy always pulls your mind down. And positive lifts you up. Anybody whose presence brings your mind down must be avoided. This is the right opportunity to exercise spiritual attitude. Your work situation is the best ground to practise it. Live in the present. This will make you optimistic, confident and happy. Don’t get lured by people who want to use you for their benefit. Talk practical and act for what is best for you. Practise to lead a balanced life. Beware of allowing your mind to make deep emotional bonds. Be alert! Be careful while interacting with the opposite sex. Remain close to the boss or the head of the office. But, base this relationship on clarity and pragmatism. One of your blood relations may have problem in walking and climbing stairs. This is because they wanted to stop somebody from progress. Financial gains indicated. Engage yourself in noble work with determination and integrity. Chakram suggests recitation of Chapter 18 of the Gita for you.

 

धनु

कुछ अच्छे का त्याग करना नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करता है। नकारात्मक ऊर्जा हमेशा मन को नीचे खींचती है। और सकारात्मक ऊपर उठाती है। कोई भी ऐसा व्यक्ति जिसकी व्याप्ति में आपका मन नीचे आ जाए उसकी संगति से परहेज करना चाहिए। यह आध्यात्मिक स्वभाव के अभ्यास का सही समय है। आपकी कार्य परिस्थिति इसके अभ्यास हेतु श्रेष्ठ भूमि है। वर्तमान में रहें। यह आपको सकारात्मक, आत्मविश्वासपूर्ण और प्रसन्न बनाएगा।  जो लोग आपको अपने भले के लिए इस्तेमाल करना चाहते हैं उनके प्रलोभन में न पड़ें। व्यावहारिक बात करें और आपके लिए जो सर्वाधिक श्रेयस्कर है उसके अनुसार कार्य करें। संतुलित जीवन जीने का अभ्यास करें। अपने मन को गहरे भावनात्मक संबंध बनाने देने से सतर्क रहें। सचेत रहें! विपरीत लिंग के व्यक्ति से व्यवहार करते समय ध्यान बर्तें। बौस या कार्यालय प्रमुख के समीप रहें। पर इस संबंध को स्पष्टता एवं व्यावहारिकता वर आधारित करें। आपके किसी एक रक्त-संबंधी को चलने या सीढ़ी चढ़ने में तकलीफ हो सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि वह किसी की प्रगति को रोकना चाहते हैं। आर्थिक लाभों की ओर संकेत है। स्वयं को दृढ़ता और निष्ठा के साथ कल्याणकारी कार्यों में संलग्न करें। चक्रम् परामर्श करते हैं कि आप गीता के अठ्ठारहवें अध्याय का पाठन एवं परायण करें।

 


 

 

 

Makar/Capricorn

You have two options ahead of you. Analyse deeply how they would benefit you and then choose which is the best for you. New opportunities and challenges are ahead of you. Face the challenges and convert opportunities into growth energy. Keep this energy flowing by constancy of actions. Generally, you will remain happy and energised. Work and worship both are required for success in your endeavours. Nothing can take away from you what is deservedly yours. Follow time discipline to reach your goals. Fight down your mental blocks by right reasoning. God is happy with true love and not logic. Love Him by heart where the Intelligent Energy is. Time to change vehicle. Get over your distracting thought streams and remain where thoughts can’t reach you. As thoughts and words may affect you. You may have excess urination for some time. But, that is good for you. Recitation of Chapter 8 of the Bhagwad Gita is advised for you.

मकर

आपके सामने दो विकल्प हैं। गहरा विश्लेषण करें कि दोनों आपको किस तरह से लाभकारी होंगे और फिर श्रेष्ठ का चयन करें। नए अवसर और चुनौती आपके आगे हैं। चुनौतियों का सामना करें और अवसरों को प्रगती की ऊर्जा में परिवर्तित करें। सक्रियता की निरंतरता के द्वारा इस ऊर्जा को सतत प्रवाह में रखें। सामान्यतः आप प्रसन्न एवं ऊर्जित रहेंगे। प्रयोजन में सफलता हेतु कार्य एवं प्रार्थना दोनों आवश्यक हैं। जो आधिकारिक रूप से आपका है वह कोई नहीं ले सकता। लक्ष्य तक पहुंचने के लिए समय के अनुशासन का पालन करें। अपने मानसिक अवरोधों को विवेक के साथ परास्त करें। ईश्वर सच्चे प्रेम से प्रसन्न होते हैं तर्क से नहीं। उन्हें हृदय-- जहां बुद्धिमान ऊर्जा हैं-- से प्रेम करें। वाहन बदलने का समय आ गया है। भटकाने वाली विचारधारा से उबर कर वहां रहें जहां विचार नहीं आते। क्योंकि विचार और शब्द आपको प्रभावित कर सकते हैं। कुछ समय के लिए आपको अधिक लघुशंका हो सकती है। पर वह आपके लिए अच्छा है। भगवद्गीता के आठवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।

 


 

 

Kumbha/Aquarius

Yours is the same as last week. Just keep your bowels clear and mind clean. You need to focus on your spiritual life without letting your daily work affected. Success is ensured for those who work systematically, patiently and persistently. You will realise this and find yourself a little more oriented at your work place.  Don’t discuss with others your inner feelings as people may use it against you. Some old friends may call you or you may have memories of them. Keep a red cloth with rice grains and turmeric bound in it at your work place. This will repel negatives and save you from unwarranted infringement and waste of energy. Remember you have the right to keep things private even from the most trusted person. Recitation of Chapter 18 of the Gita is advised for you.

 

कुंभ

आपका साप्ताहिक निर्देशन गत सप्ताह के समान ही है। बस अपनी आंतों को साफ रखें और मन को स्पष्ट रखें। बिना अपने दैनिक कार्यों को प्रभावित किए, आपको अपने आध्यात्मिक जीवन पर एकाग्र होना होगा। सफलता उन्हें अवश्य मिलती है जो व्यवस्थित रूप से, धैर्य के साथ एवं निरंतर कार्य करते हैं। आप यह पाएंगे और अपने कार्य के प्रति थोड़ा और व्यवस्थित हो जाएंगे। दूसरों के साथ अपनी आंतरिक भावना की चर्चा न करें क्योंकि वे उसे आपके खिलाफ प्रयोग कर सकते हैं। कोई पुराना मित्र आपको संपर्क कर सकता है या आपको उनकी स्मृति हो सकती है। लाल कपड़े में हल्दी और अक्षत बांधकर अपने कार्य स्थान पर रखें। यह नकारात्मकता को वापस भेज देगा और आपक निरर्थक ऊर्जा के व्यय और बरबादी से बचाएगा। याद रखें आपको अपने सबसे विश्वसनीय संबंध से भी चीजें  व्यक्तिगत रखने का अधिकार है। गीता के अठ्ठारहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।

 


 

 

Meen/Pisces

Believe in your path. Waste no time. Use every moment to reach your goal. But, this shouldn’t affect your daily schedules. Remain in a state of readiness as you may have to go through a test. Stay decisive in whatever you do. A calm mind and body are the best home of Intelligent Energy. Avoid spicy food. Consume sweet curd with tulsi for sometime. This will keep you motivated. Consume water with tulsi in it to keep your mind cool. It is important to recite holy names and tie a red and black thread on your left arm. This will save you from needless waste of energies and enemy thoughts. When God is everywhere He ought to be in every action too. But that doesn’t mean you get distracted. Believe in what you are doing. Keep walking the path you have chosen. Keep things secret. Recitation of Chapter 9 of the Gita is advised for you.

 

 

मीन

अपने मार्ग में विश्वास रखें। समय कदापि व्यर्थ न करें। प्रत्येक क्षण का प्रयोग अपने लक्ष्य की ओर पहुंचने हेतु करें। पर इससे आपकी दिनचर्या को प्रभावित न होने दें। तैयार रहें क्योंकि आपको किसी परीक्षा से गुजरना पड़ सकता है। जो भी आप करें उसमें निर्णायक रहें। बुद्धिमान ऊर्जा के श्रेष्ठ निवास एक शांत मन और देह होते हैं। मसालेदार भोजन ग्रहण करने से बचें। कुछ समय के लिए तुलसी के साथ मीठा दही का सेवन करें। यह आपको प्रेरित रखेगा। जल में तुलसी ग्रहण करें जिससे आपका मन शीतल रहे। यह आवश्यक है कि आप ईश्वर के नाम लेते रहें और बाएं हाथ परलाल और काला धागा बांधें। यह आपको ऊर्जा का निरर्थक व्यय और शत्रु विचार से रोकेगा। जब ईश्वर हर जगह हैं तो हर कार्य में भी होना  स्वाभाविक ही है। पर इसका अर्थ यह नहीं कि आप विचलित हो जाएं। जो कर रहे हैं उसमें विश्वास करें। जो मार्ग आपने चुना है उसपर चलते रहें। गीता के नौवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का परामर्श है आपके लिए।   


 

 

  “I know God knows every mind and feels every heart more clear than they do.”

                   

Vivek Sharma

 

 

 

 

 

 

 


 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

View older posts »