Menu

KRISHNA Tarangam

A Political and Sciences Website

Gita Bhagya Chakram

Weekly Guidance

 

Bhagya Chakram is a secret science to guide you through your daily life by predicting your situation and helping you out with Gita based guidance . This is the guidance which Krishna gave to Arjuna through the Gita shlokas. They are shlokas, but they carry coded vibrations which predict your situation and give you a solution.  It is said that the battle of Mahabharat went on for 18 days and Krishna hinted what was going to happen each day through the secret vibrational codes. Arjuna carried himself out through that situation by practising a particular state of mind.

The same system has been applied to help people of various rashis (zodiac signs) by decoding their situation for them during the week and how they should handle it. The Krrisha team introduces the new feature weekly to help you prepare for the week. Later, this could be reintroduced as a daily feature. The main intention of introducing the secret system  is to help you imbibe, practise and execute the right attitude of mind and not to promote any superstition.

Krrisha Team

 


 

Mesh/Aries

Concern of house and family shall be topmost this week. There is need to re-organise things and purify them then alone you will feel peace of mind. Your body and your home need a purification process. Perform agyaari morning and evening, do pranayama to avoid complications and impurities accumulating in your body Recitation of Chapter 10 is advised of Bhagwad Gita is advised for you.

 

 

 

मेष

परिवार और परिजनों की चिंताएं इस सप्ताह प्राथमिक रहेंगी। आवश्यक है कि आप चीजों को फिर से व्यवस्थित करें और पवित्र करें तब ही आपके मन को  शांति प्राप्त होगी। सुबह शाम अग्यारी करें, देह में जमा हो रही अपवित्रता और अशुद्धियों से बचने के लिए प्राणायाम करें। भगवद्गीता के दसवें अध्याय के पाठन एवं परायण की सलाह है आपके लिए।

 

 

 

 

 


 

 

Vrishabh/Taurus 

You shall be more focused on your work to the exclusion of your associations. This may get you some negative reaction from family members and associations. But the energy to reach goal will keep you safe and sound. You shall be unmoved, undeterred and relentless in your efforts. Meditation is important. Recitation of Chapter 6 of the Gita is advised.

 

 

वृषभ

आप अपने कार्य में इतने तल्लीन हो जाएंगे कि आपके संबंधी आपसे अलग महसूस करेंगे। यह आपको परिजनों और संबंधियों से कुछ नकारात्मक प्रक्रिया दिलवा सकता है। परंतु लक्ष्य तक पहुंचने की ऊर्जा आपको सुरक्षित रखेगी। आप अपने प्रयत्नों में अडिग, अचल और लगातार रहेंगे। ध्यान करना आवश्यक है। गीता का छठा अध्याय निर्देशित है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 


  

Mithun/Gemini

You will have to pay attention to minutest things in order to gain command over your situations the task may seem to be bigger than you have expected but careful baby steps can help you get ahead towards your goal. There is no wisdom in getting into the details when you know that what you lack in is not taking the right initiative at the right time. Go from small to big and not big to small while handling a task .Continue spiritual exercise sincerely. Recitation of Chapter 10 of the Gita is advised.

 

 

 

मिथुन

आपको अपनी परिस्थिति पर प्रभुत्व पाने हेतु बारीक से बारीक चीजों पर ध्यान देना होगा। काम उम्मीद से ज्यादा बड़ा हो सकता है पर ध्यान से लिए गए छोटे-छोटे कदम आपको आपके लक्ष्य तक ले जाएंगे। जब आपको पता है कि सही समय पर सही पहल करने में आप चूक जाते हैं तो विस्तार में जाने में कोई समझदारी नहीं है।  काम संभालते समय छोटे से बड़े की ओर बढ़ें न की बड़े से छोटे की ओर। आध्यात्मिक अभ्यास निष्ठापूर्वक जारी रखें। गीता के दसवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने की सलाह है।

 

 

 

 





 

 


 


Kark/Cancer

Let yourself be ‘sound’ disciplined. Small, shrill, loud sounds may keep you upset. This indicates your body is not vibrating at the right frequency and hence you require to tune yourself into the cosmic harmony by practicing continuity of a sound that’s a kind of meditation which will reset your system and retune your body mind complex this will help you to prepare for big goals. Recitation of chapter 8 of the Bhagwad Gita.

 

 

कर्क

अपने आप को 'ध्वनि' अनुशासन का पालन करने दें। छोटी, तीखी, तेज ध्वनियां आपको दुखी कर सकती हैं। यह दर्शाता है कि आपकी देह सही तरंग पर कंपित  नहीं है और इसलिए आपको निरंतर ध्वनि के अभ्यास से खुद को ब्रह्मांडीय तारतम्य में कंपित करना होगा। यह ऐसा ध्यान है जिसके द्वारा आपकी व्यवस्था फिर से ठीक हो जाएगी और आपके देह मन भीती को पुनः बड़े लक्ष्यों हेतु तैयार कर देगा। भगवद्गीता के आठवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने की सलाह है। 

 


 

 

 

 

 

 

 


Simha/Leo

You will have to get rid of petty concerns about life routine. You will have to change your mind set in order to bring change in your life. But be careful this should not orient you materialistically that means not taking the wrong course by avoiding spiritual exercises and the efforts for self-evolution. Some of you may suffer from identity crisis but that is temporary. Recitation of Chapter 16 of the Gita is advised.

 

 

 

 

सिंह

जीवन के नियमित कार्यों के प्रति छोटी चिंताओं को आपको त्यागना होगा। अपने जीवन में परिवर्तन लाने हेतु आपको अपनी मानसिकता में परिवर्तन करना होगा। पर ध्यान रहे कि यह आपको भौतिकता की ओर प्रवृत्त न कर दे मतलब यह कि आप आध्यात्मिक अभ्यासों को छोड़ कर और आत्मविकास के प्रयासों को छोड़कर गलत प्रवाह न ले लें। आपने से कुछ को परिचय का अभाव हो सकता है पर वह कुछ ही समय का होगा। गीता के सोलहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने की सलाह है।

 

 

 

 

 

 

 

 


Kanya/Virgo

Take bold steps in decisions. It is time don’t run away from your situation or challenge you can’t escape it. So, face it with honesty and realization of your own weaknesses. Don’t avoid a person who has been instrumental in revolutionizing life. You are being unfair with him/her. You are giving undue weightage to an acquaintance who only wants selfish gains from you. Be careful about it. Use money in welfare activities. Recitation of Chapter 17 of the Gita is advised.

 

 

 

 

 

 

कन्या

निर्णयों में प्रबल कदम उठाएं। अब समय आ गया है, अपनी परिस्थिति या चुनौती से भागें नहीं आप उनसे बच नहीं सकेंगे। इसलिए सत्यता और अपनी कमजोरी  को स्वीकारते हुए उनका सामना करें। आपके जीवन में आमूल परिवर्तन लाने में कारक व्यक्ति से बचें नहीं। आप उनसे न्याय नहीं कर रहे हैं। आप किसी ऐसे परिजन को अनावश्यक तूल दे रहे हैं जो आपसे केवल स्वार्थ पूर्ण लाभ चाहता है। इस बारे में सतर्क रहें। धन का प्रयोग भलाई के कामों में करें। गीता के सत्रहवे अध्याय के पाठन एवं परायण करने की सलाह है।

 

 

 

 

 

 


 

 

Tula/Libra 

You will feel elevated within and find people talking positively about you. The idea is that you see how people change their opinion when you become powerful don’t be misled by them because they will change their opinion once again when they will find you weak. Clean up the four walls within which you spend most of your time (probably your office or room). Clean up the north east corner of your room or office in order to neutralize negative energy left there by somebody’s unholy presence nothing to worry. Take care of your left eye and left side of your brain. Recitation of Chapter 11 of the Gita is advised.

 

 

 

तुला

आपको आंतरिक रुप से ऊपर उठाया हुआ महसूस होगा और आप पाएंगे कि लोग आपसे सकारात्मक बातें कर रहे हैं। उद्देश्य यह है कि आप देख पाएं कि कैसे लोग आपको बलवान पाते ही बदल जाते हैं। इससे भ्रमित न हों क्योंकि आपके कमजोर होते ही वह पुनः बदल जाएंगे।  जिस चहारदीवारी में आप सबसे अधिक समय बिताते हैं (आपका कमरा या ऑफिस) उन्हें साफ करें। अपने कमरे के पूर्व-उत्तर कोने को साफ करें जिससे कि किसी की अपवित्र मौजूदगी से छोड़ी हुई नकारात्मक ऊर्जा को बेअसर कर सकें। चिंता की कोई बात नहीं है। अपनी बांई आंख और बांए तरफ के मस्तिष्क का ध्यान रखें। गीता के ग्यारहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का निर्देश है। 

 

 

 

 

 

 

 

 


 

 

Vrishchik/Scorpio

Keep your room or place filled up with divine fragrance. Like chandan or havan and you will find surprising changes in your adversaries. It is time to broad base your business or efforts and take it to the next level. Beyond the boundaries. If you are working in a city then you have to extend your business beyond it and if it is whole country then focus abroad. Those involved in fragrance and trade or pooja samigri shall prosper. Recitation of Chapter 11 of the Gita is advised.

 

 

 

 

वृश्चिक

अपना कमरा या जगह दिव्य सुगंध से भरा हुआ रखें। जैसे कि चंदन या हवन और आप पाएंगे कि आपका अहित चाहने वालों में आश्चर्यजनक बदलाव आएंगे। अब समय है कि आप अपने बिजनेस को या प्रयासों को बड़ा आधार दें और अगला कदम उठाएं। सीमाओं से परे। यदि आप शहर में काम करते हैं तो उससे बाहर फैलाव करने का सोचें और यदि आप एक राष्ट्रीय उद्योगपति हैं तो अंतरराष्ट्रीय बनने पर ध्यान दें। जो सुगंध और व्यापार में हैं या पूजा सामग्री में हैं वे खूब तरक्की करेंगे। गीता के ग्यारहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने का निर्देश है।

 

 

 

 


 

 

 

Dhanur/Sagittarius

It is time to really know who is on your side and who is not because you are going to enter a righteous battle of thoughts, something which has to do with and ideological stand point. Without a support group you cannot counter you adversaries so strategically move and plan your steps with the support of the likeminded people. What matters most is you need to have a support without which you cannot succeed in your project, effort or mission. Recitation of Chapter 1 of the Gita is advised.

 

 

धनु

अब समय है कि आप देखें कि आपके साथ कौन खड़ा है और कौन आपसे विपरीत खड़ा है क्योंकि अब आप वैचारिक धर्मयुद्ध में प्रवेश कर रहे हैं, कुछ ऐसा जो वैचारिक आधार से संबंध रखता है। बिना सहायक संघ के आप अपने दुश्मन का सामना नहीं कर पाएंगे इसलिए नीतिपूर्ण रुप से एक सा मन रखने वालों के साथ आगे बढ़ें। मायने यह रखता है कि आपको सहारे की जरूरत है जिसके बिना आप अपने प्रयोजन, प्रयास या उद्देश्य में सफल नहीं पाएंगे। गीता के पहले अध्याय के पाठन एवं परायण करने की सलाह दी है।

 

 

 

 

 

 

Makar/Capricorn

 Jurisdictional concerns will keep you busy. You will have to listen to the leader or your advisor to get out of the situation. Thinking that you alone can handle it will only give you anxiety and hyper tension. You must protect your jurisdiction but you will have to leave your stubbornness and execute the right advise timely to emerge victorious. Everything depends upon how you take the next step-whimsically, thoughtlessly or with the advice from an elderly person. Recitation of Chapter 13 of the Gita is advised.

 

 

मकर

न्यायिक चिंताएं आपको व्यस्त रखेंगी। परिस्थिति से बाहर आने के लिए आपको अपने प्रमुख अथवा सलाहकार की बात माननी होगी। यह सोचना कि आप अकेले संभाल लेंगे आपको ही चिंता और घबराहट देगा। आपको अपने न्यायिक क्षेत्र की रक्षा करनी चाहिए परंतु आपको जिद्द छोड़कर सही समय पर सलाह माननी होगी जिससे कि आप विजयी बाहर आएं। सब निर्भर करता है कि आप अगला कदम कैसे उठाते हैं – सनक में, विचार किया बिना या बड़े की सलाह मानकर। गीता के तेरहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने की सलाह है।

 

 

 

 

 


 

Kumbha/Aquarius

You will have to use your intellect and will power in the right combination to get things done. You shall be receptive and more accepting to oddities of life than before this will enable you to see things clearly and handle challenges willfully. Execution of an idea is always better than thinking about the idea all the time. Your actions will reflect self-confidence and determination to accomplish the task at hand. Keep away from lethargy.   Recitation of Chapter 18 of the Gita is advised.

 

 

 

 

कुंभ

आपको अपनी बुद्धि और इच्छा शक्ति का सही अनुपात में प्रयोग करना होगा जिससे आपके काम हो सकें।  आप जीवन की विषमताओं के प्रति पहले से अधिक खुले और स्वीकार करने वाले होंगे। यह आपको चीजों को स्पष्ट रुप से देखने के लायक बनाएगा और उन्हें बेहतर इच्छा से संभलवाएगा। विचार का क्रियान्वयन उसके बारे में सोचते रहने से अधिक बेहतर है। आपके कामों में आत्मविश्वास और उद्देश्य प्राप्ति हेतु दृढ़ता दिखेगी। आलस्य से बचें। गीता के अट्ठारहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने की सलाह है।

 

 

 

 

 

 

 


Meen/Pisces

Keep your anger under control make sure that you don’t get what you desire through lies and subterfuge. Use your right reason and willpower to accomplish things instead of trying to throw your weight around. Focus on how money earning can bring in the balance within the home and office. Don’t waste your energies in needless entertainment and indulgence. Continue pranayama and meditation to keep yourself charged. Recitation of Chapter 16 of the Gita is advised.

 

 

 

 

मीन

 

अपने क्रोध को नियंत्रित रखें। ध्यान रहे कि आप जो चाहते हैं वह झूठ और छल से न प्राप्त करें। अपने भार को इधर-उधर डालने से अच्छा है कि इच्छाशक्ति और विवेक द्वारा चीजें प्राप्त करें। ध्यान यह दें कि कैसे पैसा कमाने से घर और ऑफिस में संतुलन ला सकता है। अपनी ऊर्जाओं को निरर्थक विहार और संलग्नताओं पर व्यर्थ न करें। प्राणायाम और ध्यान करते रहें और वर्जित रहें। गीता के सोलहवें अध्याय के पाठन एवं परायण करने की सलाह है। 


 

 

 

 

 

 

 


 

 

  “I know God knows every mind and feels every heart more clear than they do.”

                   

Vivek Sharma

 

 

 

 

 

 

 


 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

View older posts »